मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

0
819

कविता

मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

दीवाली में राष्ट्रहित का गला घोंटकर छेद ना करना थाली में

मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

देश के धन को देश में रखना नहीं बहाना नाली में

मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

दीवाली में राष्ट्रहित का गला घोंटकर छेद ना करना थाली में

मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

बने जो अपनी मिट्टी से वो दीये बीके बाजारों में

छुपी है विज्ञानिता अपनी  सभी तीज त्यौहारों में

दीवाली में राष्ट्रहित का गला घोंटकर छेद ना करना थाली में

मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

चाइनीज झालर से आकर्षित सब कीट पतंगे आते हैं

जबकि दीये में जलकर सब बरसाती कीड़े मर जाते हैं

दीवाली में राष्ट्रहित का गला घोंटकर छेद ना करना थाली में

मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

कार्तिक दीप दान के बदले मित्र दोष खुशहाली में

मिट्टी वाले दीये जलाना अबकी बार दीवालीमें

दीवाली में राष्ट्रहित का गला घोंटकर छेद ना करना थाली में

मिट्टी वाले दिए जलाना अबकी बार दीवाली में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here