जानिए पेट की गैस की समस्या और घरेलू उपचार

0
200
जानिए गैस्ट्रिक(गैस की समस्या) से छुटकारा केसे पा सकते है
जानिए गैस्ट्रिक(गैस की समस्या) से छुटकारा केसे पा सकते है

जानिए पेट की गैस की समस्या और घरेलू उपचार

गैस्ट्रिक से कैसे बच सकते हो

खान-पान और जीवनशैली में कुछ बदलाव आते ही कई बीमारियां आपके शरीर में एकदम से दाखिल हो जाती हैं,जिनका आपको कुछ देरी के बाद ही पता चलता है।कभी-कभी कुछ बीमारियां शरीर के लिए बहुत ही दुखदाई बन जाती है।खाने-पीने की तब्दीली का सबसे ज्यादा असर पेट पर पड़ता है, जिसके साथ शरीर में कई तरह के अमल बनने शुरू हो जाते हैं, जैसे गैस्ट्रिक (बदहजमी) का शिकार होते ज्यादा समय नहीं लगता।ऐसे में बाजारों में उपलब्ध दवाइयों को लेकर खुद ही डॉक्टर मत बने।बेहतर है समय पर डॉक्टर की सलाह के साथ ही दवाई शुरू करें।दवाइयों के साथ इस समस्या से निपटने के लिए आपको खाने पीने की तरफ भी ध्यान देना होगा।खाने पीने में जो बदलाव लाए जा सकते हैं, उनको फिर से हल्का करें और अपने आप को बदहजमी से दूर रखें।

ऐसे में ज्यादा चर्बी वाला भोजन मत करें। विटामिन ‘सी’ के साथ भरपूर फलों का सेवन बहुत कम करें, जैसे संतरा, नींबू. टमाटर आदि

कॉफी और चाय का सेवन तो ना के बराबर ही करें। चाय पीने के ज्यादा आदि होने से पहले पानी जरूर पीएं, फिर चाय ठंडी करके पियो।

भोजन करते समय पानी की भर्ती जहां तक हो संभव कम से कम मात्रा में करें।

मुख्य रूप में दो बार पेट भर के संतुलित भोजन खाने की बजाय दिन में चार पांच बार थोड़ी थोड़ी मात्रा में खाएं।

रात को भोजन सोने से पहले दो-तीन घंटे पहले करें। रात को भोजन करने के बाद तुरंत लेट ना  जाएं, ज्यादा भार वाले लोगों को कसरत करके अपने आपको लगातार सैर करके अपने भार पर काबू रखना चाहिए। नशीली वास्तुओं का इस्तेमाल मत करें, जैसे शराब, सिगरेट, तंबाकू, पान, मसाला और बीडी आदि।

ठंडे बोतलबंद पानी वाले पदार्थों का प्रयोग कम से कम करें।बदहजमी का सबसे बड़ा दुश्मन है क्रोध और तनाव। इसको अपने आप से दूर रखने की कोशिश करें, जिसके लिए आप योग मेडिटेशन का सहारा ले, इसके साथ मन में शांति बनी रहेगी।सोते समय मन को शांत रखे, जिसके साथ आप अच्छी तरह नींद ले सके।मनोरंजन के अलग-अलग तरीकों को अपने जीवन का रस बनाए रखें। कोई और बीमारी होने पर डॉक्टर को अपनी गैस्ट्रिक समस्या के बारे में जरूर बताएं। जिस बिस्तर पर सोने जा रहे हो, सिर वाली जगह को 5 या 6 इंच ऊंची रखें। इस तरह आप अपने जीवन शैली और खानपान के बदलाव लाकर आप इस रोग से छुटकारा पा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here