कैसे करें पेपरों की तैयारी

0
167
कैसे करें पेपरों की तैयारी
कैसे करें पेपरों की तैयारी

कैसे करें पेपरों की तैयारी

प्यारे बच्चों, आप सब के इम्तिहान बिल्कुल नजदीक आ गए हैं।आम देखा जाए तो बच्चों में पेपरों को लेकर बहुत बड़ा डर का माहौल होता है, खासतौर पर जब बोर्ड के पेपरों संबंधी, पर डरने से कभी कोई मामला हल नहीं होता।इसलिए हमें चाहिए कि यह डर को छोड़कर मन लगाकर पूरी तरह इम्तिहान की तैयारी में लग जाएं और अच्छे नंबर लेकर पास हो।अब सवाल यह है कि पेपरों में बहुत थोड़ा ही समय रह गया है और बिना किसी तकनीक  से पेपरों की तैयारी करने के लिए बैठते हैं तो देखते हैं कि सब्जेक्ट तो बहुत है और समय बहुत कम है इसलिए बहुत सारे बच्चे उलझ के रह जाते हैं कि पहले क्या पढ़ा जाए।इससे उनका मन ऊब जाता है और वह थोड़ा समय पढ़ाई करके छोड़ देते हैं।इसके साथ वह अपने समय का सही ढंग से उपयोग नहीं कर पाते और पेपरों की तैयारी सही तरीके से नहीं होती।इसके कारण उनके नतीजे के ऊपर बुरा प्रभाव पड़ता है।पेपरों की तैयारी को कैसे बढ़िया तरीके से करने से अच्छे नंबर प्राप्त हो सकते हैं।

पहली बात तो यह है कि पेपरों के डर को छोड़कर पढ़ना शुरू करें, डरने के साथ आपकी यादशत और पढ़ने की ताकत पर बुरा असर पड़ सकता है।इसलिए डर को छोड़कर अपना ध्यान पूरी तरह से पढ़ाई पर केंद्रित कर दे।आप अपने अनुसार ही अपना टाइम टेबल बनाकर पढ़ाई करें।जब भी आप पढ़ने के लिए बैठो तो सबसे पहले कठिन विषय को पढ़ें, क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि हम आसान विषय की तैयारी करते रहते हैं पर कठिन विषयों को नहीं पढ़ते और हमारा समय निकल जाता है और हम कठिन विषय जैसे गणित, विज्ञान आदि की बढ़ रही चिंता है,जो हमारी ग्रहण करने की ताकत पर बुरा असर डालती है।

हमेशा शांत वातावरण में और अकेले बैठकर और बोल कर पढ़ें ऐसा करने के साथ एकाग्रता बढ़ती है और बाहर की आवाजें भी हमें परेशान नहीं करती। बहुत सारे बच्चे अक्सर यह शिकायत करते हैं कि वह याद तो करते हैं पर जल्द ही सब भूल जाते हैं।भूलने से बचने के लिए चाहिए कि पहले हम जी जान से याद करें और उसको 2 बार से अच्छी तरह समझ समझ के पढ़े। तीसरी बार पढ़ने लगे तो कॉपी के ऊपर उत्तर को बहुत ही विस्तार रुप से उतार ले।अब जब भी आप उसे दोहराएंगे तो कॉपी कि तरफ देख कर बोला हुआ भी याद आ जाएगा।गणित के फार्मूले और ज्यादा कठिन चीजें याद करने के लिए आप कल्पना विधि का उपयोग कर सकते हैं,जैसे उदाहरण के तौर पर कोई शब्द या वाक्य याद करना है तो आंख बंद करके कल्पना करें कि जैसे वह शब्द या वाक्य बहुत ही सुंदर रंगों के साथ बड़े बड़े अक्षरों में किसी सुंदर बोर्ड पर लिखा हुआ है और उसके सारे वाक्य रात के अंधेरे में जग रहे हैं।इस तरह आपका दिमाग में वह तस्वीर पैदा हो जाएगी जो आपको ज्यादा समय याद रहे कि सबसे जरूरी बात यह है कि कभी भी नकल की उम्मीद नहीं रखनी चाहिए और मन लगाकर पेपरों की तैयारी करनी चाहिए। नकल की उम्मीद रखने वाले विद्यार्थी जिंदगी के हर कदम में नाकामयाब हो सकते हैं और उनमें सदा आत्मविश्वास की कमी रहती है।इसलिए बच्चों आप अभी से अपनी सारी ऊर्जा अपनी पढ़ाई की और लगाकर ऊपर दी गई बातों का ध्यान रखते हुए इम्तिहान की तैयारी में लग जाओ, ताकि आप अच्छे नंबर लेकर पास हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here