किडनी के रोगियों के लिए आयुर्वेद बना उम्मीद की किरण

0
65

किडनी के मरीजों के लिए आयुर्वेद वरदान साबित हो सकता है अत्याधुनिक शोध से साफ हो गया है कि आयुर्वेदिक फार्मूला नासिर किडनी की बीमारी को बढ़ने से रोकने में सफल है बल्कि खराब हो चुकी कोशिकाओं को भी ठीक कर सकता है हाल ही में इंडो अमेरिकन जर्नल ऑफ वासेपुर रिसर्च में छपे शोध के अनुसार जड़ी बूटियों से बनी दवा मेरी किडनी के इलाज में कारगर है आयुर्वेद के फार्मूले पर जड़ी बूटियों से बनी दवाओं को लेकर पिछले दिनों यह शोध प्रकाशित हुआ है शोध के अनुसार निम्न में वर्तनी की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को पुनर्जीवित करने में सफल होता है एलोपैथी में किडनी की बीमारी का कारगर इलाज मौजूद नहीं होने की वजह से दुनिया में इस आयुर्वेदिक फार्मूले की चर्चा है गौरतलब है इसलिए साल अक्टूबर में सोसाइटी एंड मेटाबॉलिज्म के अंतरराष्ट्रीय के इलाज में आयुर्वेद की शामिल करने का मुद्दा शायरों से आयुर्वेदिक दवाई को बढ़ने से रोकने और खराब को ठीक करने में मिल रही सफलता पर विशेष चर्चा हुई सम्मेलन में भाग ले रहे डॉक्टरों का कहना था कि एलोपैथी में करने का कोई प्रभावी इलाज नहीं है मामला जाता है जान देने की बात है कि भारत में किडनी के रोगियों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है हालात यह है कि पिछले 15 सालों में किडनी के रोगियों की संख्या देश में दुगनी हो चुकी है स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में इस तरह किसी न किसी रूप में बीमारी से ग्रसित हैं किडनी के रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए ही मोदी सरकार ने सभी जिला अस्पतालों में डायलिसिस की सुविधा मुहैया करवाने का फैसला किया है जन्म जन्म का साथ है निभाने का वादा करने वाले पति अपनी पत्नियों को कहते हैं देश में पुरुषों के मुकाबले में महिलाओं की कितनी खराब होती है लेकिन जरूरत पड़ने पर जान देने वाली कंपनियों के नाम है शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग की ओर से 12 मार्च 2015 जनवरी 2017 तक के लिए 110 लोगों को अनुमति दी गई थी इनमें से करीब 19 ट्रांसप्लांट थे जिन्होंने एक दूसरे के प्रति 10 मामलों में पत्नियों को अपने पति को अपने देने की अनुमति दी गई है पक्षियों द्वारा पत्नी देने के मामले नाममात्र हैं महिला मौत का आठवां बड़ा कारण पटेल अस्पताल के यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर स्वपन मानते हैं कि पुरुषों के मुकाबले अत्याधुनिक शोध से साफ हो गया है जी आयुर्वेदिक फॉर्मूला ना सिडनी की बीमारी को बढ़ने से रोकने में सफल है बल्कि खराब हो चुकी कोशिकाओं वो भी ठीक कर सकता है हाल ही में इंदौर कन्नौज सेहत विभाग करता है फ्री डाउनलोड सेहत विभाग की डायरेक्टर डॉक्टर जसपाल कौर ने बताया है कि विभाग की ओर से कैंसर के इलाज की तर्ज पर किडनी के इलाज के लिए कोई फंड जारी नहीं किया जाता है इस साल सरकार की ओर से राज्य के सभी अस्पतालों में किडनी के रोगियों को मुफ्त डायलिसिस करने की सुविधा दी जा रही है जिला छतरपुर क्रीम सभी अस्पतालों में डायलिसिस यूनिट चल रहे हैं अस्पताल निश्चित भी दें देते हैं अनुमति चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के डायरेक्टर डॉ अवनीश कुमार का कहना है कि राज्य में किडनी प्रत्यारोपण करने वाले जिन अस्पतालों में सालाना 25 से ज्यादा 30 होते हैं उनके अस्पतालों में ही अनुमति देने के लिए कमेटी गठित है इसके अलावा स्टेट अर्थला इलेक्शन कमेटी और अमृतसर में भी सरकारी कमेटी में कैसे लगती हैं अंग प्रतिरोपण एक्ट के तहत तमाम पैरों के मद्देनजर गहन जांच पड़ताल के बाद किडनी प्रतिरोपण की अनुमति दी जाती है इसमें ब्लड रिलेशन वाले केस भी शामिल होते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here