अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर भारत

0
274
अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर भारत
अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर भारत

धारा 370 का अनमोल असैंथू बद्री का समुद्र पर सेतु बांध दिया बोंशत रावण विश्वास नहीं कर पा रहा था अपने विश्वसनीय गुप्त चरो द्वारा लाई गई सूचना पर चारों और समुंदर से घिरी अभेद्य किले श्रीलंका में बैठा दशानन अभी तक यही सोच रहा था कि वह कैसा भी अपराध कर ले उसे कोई छूने वाला नहीं वह बार-बार खुद को चोटी काटता कभी बड़बड़ाना और पोस्ता के कहीं सिंदूर आज को भी अकेला जा सकता है आज वैसा ही विश्व में उन ताकतों को हो रहा होगा जो सोचती रही कि विवश और / भारतीय राजनीतिक व्यवस्था जम्मू कश्मीर में धारा 370 को छू नहीं सभी जितना सतन पाकिस्तान अमेरिका है उससे अधिक वह हमारे लोग जो धमकी देते थे कि इस धारा को छुआ तो केवल हाथ नहीं बल्कि पूरा शरीर जल जाएगा लेकिन केवल धारा एवं नहीं हटी बल के जम्मू कश्मीर राज्य का पुनर्गठन भी हुआ सेतु राज बांधा गया और गिराने वाले सतन पाठ्यक्रम दिख रहे हैं केवल घरेलू परिप्रेक्ष्य में नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर भी वार्तालाप वाली स्थिति में आ गया है वर्तमान हालातों में पड़ोसी देश के साथ साथ पूरी दुनिया को यह संदेश देना आप सत्य हो गया था के जम्मू कश्मीर को भारत अपना अभिनंदन अंग कहता मात्र नहीं बल्कि मारता भी है सभी जानते हैं कि अफगानिस्तान में बुरी तरह फंसा मेनका वापसी के लिए तड़प रहा है और संभव है कि इस काम के लिए उसे पाकिस्तान की ही सर्वाधिक जरूरत महसूस हो गया जा शेर अपनी अपने देश देश की नीति पर चलने वाला मेरा इमरान खान को खुश करने के लिए जम्मू कश्मीर को लेकर कई ऐसी नीति अपना सकता है जो भविष्य में भारत के लिए मुसीबत साबित हो हाल में भारत के लिए मुसीबत साबित हो हाल ही में इमरान ने अमेरिका दौरे के दौरान वहां के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कश्मीर को लेकर मध्यस्था का शिगूफा भी छोड़ा जिससे भारतीय नीति निर्माताओं के कान खड़े होने सभा विक हैं भारत समझ गया कि अब हाथ पर हाथ धरकर बैठने का समय नहीं है इस कदम से भारत ने अमेरिका पाकिस्तान की जोड़ी को संदेश दे दिया है कि कश्मीर उसकी कमजोर रखने के जिसे दबाकर भारत की भूमिका को अफगानिस्तान में न कर दिया जाए भारत ने अफगानिस्तान में अब तक लगभग 1000 करोड़ खर्च किए हैं भारत ने अफगानिस्तान में क्या-क्या नहीं बनाया बिजली घर बिजली की लंबी-लंबी लाइनें कई बांध कई ने कई विद्यालय कई पंचायत घर सबसे बड़ा निर्माण कार्य हुआ है ईरान और अफगानिस्तान को सीधे सड़क से जोड़ने का दिलाराम सड़क लंबी है इस पर भारत ने अरबों रुपए खर्च किए हैं इस सड़क ने अफ़गानों की साल पुरानी मजबूरी को खत्म किया उसने अपने यातायात और आवागमन के लिए पाकिस्तान पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं है अफगानिस्तान में हमारे हजारों शिक्षकों को इंजीनियरों शिक्षकों पत्रकारों अवसरों और विशेषज्ञों ने पिछले साल में इतना जबरदस्त योगदान किया है कि वहां के कट्टरपंथी लोग भी भारत की तरफ किए बिना नहीं रहते अमेरिका की अनोखी में पाकिस्तान खतरनाक दानों का इस्तेमाल भारत के खिलाफ कर सकता है ऐसे में भारत कभी बर्दाश्त नहीं कर सकता कि अफगानिस्तान को लेकर बनने वाली किसी भी योजना में उसकी अनदेखी हो और वह भी जम्मू-कश्मीर को और बनाकर सीधे शब्दों में कहें कि धारा 370 के अनुमोदन के बाद ने परिस्थितियों में अमेरिका का लालच देकर मदद मांगेगा पूर्व विदेश सचिव कंवल सिब्बल के अनुसार पाकिस्तान का सोनू हो जाना इसलिए भी सबाब एक है क्योंकि यह कदम कश्मीर पर भारत-पाकिस्तान वार्ता की रूपरेखा को पूरी तरह से बदलेगा देखने में आया है कि विशेष संबंधों को बनाए रखने के लिए भारत ने लंबे अरसे से कश्मीर पर रक्षात्मक रुख अपनाया है नई दिल्ली ने इसके लिए जम्मू कश्मीर से जुड़े सभी लंबित मुद्दों पर बातचीत करने की हामी भरी और आतंकवाद को भी बर्दाश्त किया लेकिन अब जब देश में कश्मीर की घरेलू विधि पूरी तरह से बदल गई अब यह केंद्र स्तर पर देश बन गया है दादा को भी अलग कर दिया गया है तब कश्मीर मसले पर पाकिस्तान के साथ दिवसीय बातचीत का आधार ही खत्म हो गया है अब पाक अधिकृत कश्मीर पर दावे को छोड़कर कोई लंबित मामला नहीं बचा इसी पाक अधिकृत कश्मीर में गिलगित और स्थान भी शामिल है अब कश्मीर मसले ने हाल के लिए किसी पिछले दरवाजे की जरूरत भी खत्म हो गई है विदेश मामलों के विशेषज्ञ मानते हैं कि कोई मोर्चे पर भारत को अभी सावधान रहने की आवश्यकता है राजनीतिक हताशा और घरेलू दवा में पाकिस्तान भारत के इस फैसले का अंतरराष्ट्रीय करण जरूर करेगा लेकिन पाकिस्तान के विकल्पों पर यदि गौर करें तो वह हमारे खिलाफ सिर्फ दुष्प्रचार कर सकता है इसलिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के महीनों बाद भारतीय संविधान में जोड़ा गया था इसलिए अपनी बहन से इसलिए हटाने जा बदलाव करने का अधिकार भी भारत को ही है पिछले 70 सालों से भारतीय नेता कश्मीर को अपना अभिनंदन कहते आ रहे हैं परंतु विवाद से धाराओं को संविधान से हटाकर मोदी सरकार ने कश्मीरियों को भी यह कहने का गौरव प्रदान कर दिया है कि भारत उनका अभिनंदन है अभी तक यह रिश्ता एक तरफा सा था और इस राज्य के भारत में पूर्व विले के मार्ग में यह धराए घोषित वादा श्री की थी जिन्हें भारत की वर्तमान सरकार ने रंग की तरह संविधान से काट फेंका इस बात की पूरी संभावना है कि जम्मू कश्मीर भारत के साथ सेतुबंध रामायण कालीन रामसेतु की भाजी कल्याणकारी और देश को शुद्ध करने वाला है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here